Shayari of Ghalib on Ishq in Hindi and English Font, 15+ Sher

Mirza Ghalib Shayari on Ishq – 

प्रिय पाठकों आज पेश हैं Shayari of Ghalib on Ishq शीर्षक पर चुने हुए कुछ शेर. मिर्ज़ा ग़ालिब साहब ने जिन्हें ख़ास तोर पर इश्क़ के बारे में ही कहा है. उर्दू शायरी की बात हो और ग़ालिब साहब का ज़िक्र न आये ऐसा हो ही नहीं सकता. और ग़ालिब की शायरी की बात चले और इश्क़ का ज़िक्र ना होना ऐसा ही है जैसे बिना चावलों की बिरयानी बनाना.

वैसे तो ग़ालिब ने प्यार, इश्क़ और मोहब्बत व जिंदगानी के हर मरहले पर शेर और ग़ज़लें कही हैं, पर इश्क़ पर जो हुनर उन्हें हांसिल था वो शायद कहीं और नहीं मिलता, तो पेश है इश्क़ पर ग़ालिब की शायरी ….

Shayari of Ghalib on Ishq –

1 –

mirza ghalib shayari on ishq
shayari of ghalib on ishq

इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’,
कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Ishq Par Zor Nahin Hai Yeh Woh Aatish, ‘Ghalib’,
Jo Lagaaye Na Lage, Aur Bujhaaye Na Bane.
– Mirza Ghalib


2 –

shayari about nikamma dut to ishq by ghalib
ghalib shayari on ishq

इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया
वरना हम भी आदमी थे काम के
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Ishq Ne Ghalib Nikamma Kar Diya.
Warna Ham Bhi Aadmi The Kaam Ke.
– Mirza Ghalib


3 –

ghalib poetry on getting purity by crying
shayari of ghalib on ishq

रोने से और इश्क़ में बे-बाक हो गए
धोए गए हम इतने कि बस पाक हो गए
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Roone Se Ishq Me Be-Baak Ho Gaye.
Dhoye Gaye Ham Itna Ki Bas Paak Ho Gaye.
– Mirza Ghalib


4 –

ghalib poetry on result of love
ishq shayari by mirza ghalib

बे-वजह नहीं रोता इश्क़ में कोई ग़ालिब
जिसे खुद से बढ़ कर चाहो वो रूलाता ज़रूर है
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Be-Wajah Nahi Rota Ishq Me Koi Ghalib.
Jise Khud Se Badh Kr Chaho Wo Rulata Zaroor Hai.
– Mirza Ghalib


5 – Shayari of Ghalib on Ishq Image in Hindi –

sad shayari by ghalib on ishq
shayari of ghalib on ishq

आया है मुझे बेकशी इश्क़ पे रोना ग़ालिब
किस का घर जलाएगा सैलाब भला मेरे बाद
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Aya Hai Be-Kasi-E-Ishq Pe Rona, ‘Ghalib’,
Kis Ka Ghar Jalayega, Sailaab Bhala Mere Baad.
– Mirza Ghalib


Ghalib Poetry on Ishq –

6 –

shayari of ghalib on ishq
shayari of ghalib on ishq

इश्क़ से तबियत ने ज़ीस्त का मज़ा पाया
दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Ishq Se Tabiyat Ne Zeest Ka Maza Paaya,
Dard Ki Dawa Pai, Dard Be-Dawa Paya.
– Mirza Ghalib


7 – 2 Line Shayari of Ghalib on Ishq –

हम कोई तर्क-ए-वफ़ा करते हैं
न सही इश्क़ मुसीबत ही सही
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Ham Koi Tark-E-Vafaa Karte Hain
Na Sahi Ishq Museebat Hi Sahi
– Mirza Ghalib


8 –

बुलबुल के कारोबार पे हैं ख़ंदा-हा-ए-गुल
कहते हैं जिस को इश्क़ ख़लल है दिमाग़ का
ख़ंदा-हा-ए-गुल = फूलों की हंसी
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Bulbul ke karobaar pe hain khanda-ha-e-gul
Kehate hain jis ko ishq khalal hain dimaag ka
– Mirza Ghalib


9 –

इश्क़ में जी को सब्र ओ ताब कहाँ
उस से आँखें लड़ीं तो ख़्वाब कहाँ
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Ishq Mein Jee Ko Sabr-O-Taab Kahan
Us Se Aankhein Ladin To Khwaab Kahan
– Mirza Ghalib


10 –

इश्क़ ने पकड़ा न था ‘ग़ालिब’ अभी वहशत का रंग
रह गया था दिल में जो कुछ ज़ौक़-ए-ख़्वारी हाए हाए
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Ishq Ne Pakda Na Tha ‘Ghalib’ Abhi Wahshat Ka Rang
Rah Gaya Tha Dil Mein Jo Kuchh Zauq-E-Khwaari Haay-Haay
– Mirza Ghalib


Mirza Ghalib Poetry on Love –

11 –

अर्ज़-ए-नियाज़-ए-इश्क़ के क़ाबिल नहीं रहा
जिस दिल पे नाज़ था मुझे वो दिल नहीं रहा
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Arz-E-Niyaaz-E-Ishq Ke Qaabil Nahin Raha
Jis Dil Pe Naaz Tha Mujhe Woh Dil Nahin Raha
– Mirza Ghalib


12 –

बेदाद-ए-इश्क़ से नहीं डरता मगर ‘असद’
जिस दिल पे नाज़ था मुझे वो दिल नहीं रहा
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Bedaad-E-Ishq Se Nahin Darta Magar ‘Asad’
Jis Dil Pe Naaz Tha Mujhe Woh Dil Nahin Raha
– Mirza Ghalib


13 –

नहीं होता किसी तबीब से इस मर्ज़ का इलाज
इश्क़ लाइलाज है बस एहतियात कीजिए
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Nahi hota kisi tabib sy is marz ka ilaj
Ishq la ilaj ha bas ahtiat kijiye
– Mirza Ghalib


14 –

सुकून और इश्क़ वो भी दोनों एक साथ,
रहने दो ग़ालिब कोई अक्ल कि बात करो….
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Sukoon aur ishq wo bhi dono aik sath,
Rahny do GHALIB koi aqal ki bat karo….
– Mirza Ghalib


15 –

बस ख़त्म कर ये बाज़ी-ए-इश्क़ ग़ालिब,
मुक़द्दर के हारे कभी जीता नहीं करते….
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Bas khatam kar ye baazi-e-ishq GHALIB,
Muqaddar kye hary kabhi jeeta nahi karty….
– Mirza Ghalib


4 Line Shayari of Ghalib on Ishq –

16 –

इश्क़ मुझ को नहीं वहशत ही सही,
मेरी वहशत तिरी शोहरत ही सही….
क़त्अ कीजे न तअल्लुक़ हम से,
कुछ नहीं है तो अदावत ही सही….
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Ishq Tujh Ko Nahin Wahshat Hi Sahi,
Meri Wahshat Teri Shohrat Hi Sahi….
qat.a kiije na ta.alluq ham se,
kuchh nahīñ hai to adāvat hī sahī….
– Mirza Ghalib


6 Line Shayari of Ghalib on Ishq –

17 –

फिर कुछ इक दिल को बे-क़रारी है
सीना जुया-ए-ज़ख़्म-ए-कारी है
फिर हुए हैं गवाह-ए-इश्क़ तलब
अश्क-बारी का हुक्म-जारी है
बे-ख़ुदी बे-सबब नहीं ‘ग़ालिब’
कुछ तो है जिस की पर्दा-दारी है
– मिर्ज़ा ग़ालिब

phir kuchh ik dil ko be-qarari hai
siina juya-e-zaḳhm-e-kari hai
phir hue hain gavah-e-ishq talab
ashk-bari ka hukm-jari hai
be-khudi be-sabab nahin ‘Ghalib’
kuchh to hai jis ki parda-dari hai
– Mirza Ghalib


ये भी पढ़ें – 

Leave a Comment